रविवार, 5 दिसंबर 2010

अंकिता पुरोहित "कागदांश" की राजस्थानी कविता


म्हारा दादो जी

जद तक
दादो जी हा
घर में डर हो
दादो जी रै गेडियै रो।

गेडिये रो ज्यादा
पण दादोजी रो कम
डर लागतो म्हानै।

दादो जी
घर री
नान्ही मोटी जिन्सा
अर खबरां माथै
झीणी निजर राखता
बां री जूनी
मोतिया उतरयोडी
आख्यां सूं पड़तख
की नूं सूझतो
पण हीयै री आंख सूं
सो कीं देखता
म्हारा दादो जी।

घर जित्ती ई
परबीती री चिंता
अखबार भोळावंतो
बा नै हरमेस
अर बै आखै दिन
चींतता घर आयां बिच्चै
जगती री चिंतावां नै।

अखबार समूळो बांचता

विज्ञापन तक टांचता
भूंडा विज्ञापन
अर फिल्मी पान्ना
हाथ नी लागण देंवता
म्हां टाबरा रै
फाड़ च्यार पुड़द कर’र
राख लेंवता सिराणै नीचे
जीमती बरियां
गऊ ग्रास राखण ताईं
की पान्ना देंवता दादी नै
जीमती बरियां
इयां ई करण सारू।

टाबरो पढल्यो दो आंक !
पढ्योड़ो-सीख्योड़ो ई काम आवै !!
इण रट रै बिचाळै
खुद पढता आखो दिन
पढता- पढता ई
गया परा दूर म्हा सूं
पण आज भी घर में
दादो जी री बातां रो डर है
डर है भोळावण रो !

आज भी म्हे टाबर
विज्ञापन अर फिल्मी पान्ना
टाळ’र बांचां अखबार
कै बकसी दादो जी !


दादो जी कोनीं आज
फगत गेडियो है
एक कूंट धरियो
आज डर नी है
गेडियै रो ।

1 टिप्पणी:

  1. thari aa kavita na kewal ghar ra sanskaar batlaave hai, saage saage ' Kagdansh ' ri sanvedna ri kalam syoon likhan ri taakt bhi batlaave hai....... bhot e aachhi kavita. badhaai........

    उत्तर देंहटाएं